यूनिक आर्टिकल कैसे लिखें | How to write Unique Article $

 ब्लॉगिंग हो, चाहे वेबसाइट के लिए आर्टिकल लिखना हो। इन सब में सक्सेस पाने के लिए सबसे बड़ा फैक्टर ओरिजनल और युनीक कॉन्टेन्ट होता है, जिसे बनाए रख पाना आसान नहीं होता है। 


लेकिन जो ब्लॉगर सब कॉन्टेन्ट राइटर्स कॉन्टेन्ट की वैल्यू को समझते हैं वो अपने कॉन्टेन्ट को फ्रेश न्यू और युनिक बना ही लेते हैं। 


लेकिन कैसे उन्हें ऐसा क्या पता होता है जो सबसे तेज आता है और किन बातों को ध्यान में रखकर कॉन्टेन्ट लिखा जाना चाहिए, जिससे वो यूनीक रहे सबसे अलग ओरिजनल और क्वॉलिटी कॉन्टेन्ट हो तो दो। इन सारे सवालों के जवाब आज आपको इस Post में मिल जाएंगे, इसीलिए इस post को पूरा जरूर देखें। 


तो चलिए शुरू करते हैं आपको बताते हैं युनीक कॉन्टेन्ट लिखने के नायाब टिप्स। नंबर वन है। 


अपने इंटरेस्ट को फॉलो करे

अपने इंटरेस्ट को फॉलो करते हुए लिखिए कई बार ब्लॉगर सब टॉपिक्स को चूज कर लेते हैं, जो रे पसंद नहीं है। पर बाकी सारे ब्लॉगर्स उन्हीं पर लिख रहे होते हैं। ऐसे में वो सोच नहीं पाते कि ये ज़रूरी नहीं है कि आप भी ऐसा ही करें और अगर आपको ऐसा करना जरूरी भी लगता हो तो आपको टॉपिक को थोड़ा ट्विस्ट देना आना चाहिए। 


टॉपिक की थीम में चेंज करना आना चाहिए और मेरा का स्टाइल भी बाकी ब्लॉगर से एकदम अलग और खास होना चाहिए। तभी आप यूनीक कॉन्टेन्ट लिख सकते हैं और अगर ऐसा कर पाना उनके लिए पॉसिबल नहीं हो रहा है तो आप उन टॉपिक्स पर लिखने की बजाय ऐसे टॉपिक्स पर लिखिए जो आप की स्ट्रेंथ है,


 दूसरे टिप्स हैं इंस्पिरेशन को फॉलो करें। अगर कुर्सी टेबल पर बैठे बैठे लैपटॉप में कॉन्टेन्ट सर्च कर करके लिखते आ रहे हैं तो एक टाइम के


बाद अब बोरियत महसूस करने लगेगी। क्या आपके पास कुछ नया बचेगा ही नहीं और वही आपके आर्टिकल और ब्लॉग में भी दिखाई देगा। 


इसलिए बेहतर यही होगा कि आप अपने दायरे को बढ़ाएं। अपने कमरे से बाहर घर से बाहर अपने आसपास हर जगह से हर किसी से कुछ न कुछ सीखते जाएं। इसके लिए आपके ऑब्जर्वेशन का अच्छा होना बहुत जरूरी है।


 आप बच्चों से बड़ों से पक्षियों से पहाड़ों से सब से कुछ न कुछ नया सीख सकते हैं। इसलिए अपने सीमित दायरे से बाहर निकलिए और हर जगह आपको इंस्पिरेशन मिल जाएगी जो आपके आर्टिकल को यूनिक बनाएगी तो अब से हर जगह हर इंसान में हर उस नए प्लेस में कहानियां ढूंढने की कोशिश करें। 


ऑब्जर्वेशन पावर पर थोड़ा सा गौर फरमाना शुरू करें। 


नंबर तीन पर है। अपना पर्सनल एक्सपीरियंस ऐड करें। 

सबको पुुलिस से डर पर अलग अलग होता है। ऐसे में अपने आर्टिकल को थोड़ा पर्सनल टच देकर आप बड़ी आसानी से उसे युनिक बना सकती हैं। इसीलिए सिर्फ कौन से फैक्ट्स के अंदर उलझ गए मत आप उस बारे में क्या सोचते हैं। ये भी अपने ओडियन से ज़रूर शेयर करें।


 नंबर चार पर आता है प्रॉब्लम का सॉल्यूशन लाइए। 

अगर आप यूनीक आर्टिकल लिखना चाहते हैं तो अपने रीडर्स की प्रॉब्लम का पता लगाएंगे और राइटिंग के जरिए उन प्रॉब्लम्स के सॉल्यूशन दीजिए। अगर उनकी प्रॉब्लम का सॉल्यूशन सबसे पहले दे पाएंगे तो वो आपसे जुड़े रहेंगे और आपके सपोर्ट को अपनी शेयर भी करेंगे 


और ये एक ब्लॉगर और कॉन्टेंट राइटर के तौर पर आपकी यूनीकनेस होगी। 


नंबर पाँच पर है डीप रिसर्च करें।

 किसी भी टॉपिक पर लिखने से पहले अगर आप उस पर अच्छा खासा रिसर्च करेंगे। यानी


उससे जुड़े हर आस्पेक्ट से समझने की कोशिश करेंगे तो आप उसे क्वॉलिटी कॉन्टेन्ट प्रोवाइड करा पाएंगे जो एकदम यूनीक होगा और उस टॉपिक से रिलेटेड लगभग सारे सवालों के जवाब भी देता होगा। ये बिल्कुल वैसा होगा जैसे समुद्र की गहराइयों में डुबकी लगाकर मोती निकालना था।


 इसीलिए इसे एक बार आजमाने का जरूर 


नंबर छह पर है। एक से ज्यादा रिसोर्सेज की हेल्प लीजिए।

 अपने कॉन्टेक्ट में यूनीकनेस रखने के लिए और अपने रीडर्स को बेस्ट कॉन्टेंट देने के लिए आप केवल एक रिसोर्स पर ही डिपेंडेंट ना रहें बल्कि जितने रिसोर्सेज की हेल्प ले सकती हैं। लीजिए ऐसा करने से की टॉपिक को प्रेजेंट करने के बहुत सारे डिफरेंट आइडियाज और स्टाइल्स भी आ जाएगी।


 जिसके बाद आप इसमें अपना स्टाइल और पर्सनल टच आर्ट कर देंगे तो ये बन जाएगा। एकदम यूनीक कॉन्टैक्ट 


नंबर सात पर है। लैंग्वेज को सिंपल रखें। 

कई बार हम यूनीक का मतलब सबसे अलग और कॉम्प्लेक्स समझ लेते हैं और इस चक्कर में आर्टिकल की लाइन में जितनी टफ बना देते हैं उसे समझना मुश्किल हो जाता है।


 आपको ऐसा नहीं करना है। आपको एकदम सिंपल और आसान भाषा यूज करनी है, जिसका टोन फ्रेंडली हो और आपका आर्टिकल फॉर्मेट। इतना सिम्पल वो किस में कलरफुल हैडिंग सब हेडिंग और छोटे छोटे पैराग्राफ में समझना न केवल आसान लगे बल्कि उसे पढने का भी मन करे। 


ध्यान रखें कि बहुत ही सिंपल लेकिन बहुत ही इम्पोर्टेन्ट पॉइंट है और 

नंबर आठ पर है। स्पेसिफिक लॉन्ग टेल की वर्ड्स को यूज करें। 

मान लीजिए कि आपका प्लांटिंग तो बहुत यूडी के लिए क्योस्क ज्यादा रीडर्स की पहुंच नहीं बनी तो ऐसे में आपको अपने कीवर्ड्स पर भी ध्यान देना होगा। आपको टाइटल में सबसे लॉन्ग


टेल की वर्ड्स को यूज करना होगा ताकि रीडर के आर्टिकल की तरफ अट्रैक्ट हो सके। रीडर्स को आपके आर्टिकल और ब्लॉग की तरफ अट्रैक्ट करने के लिए आपको अपने आर्टिकल्स में अपीलिंग इमेजेस भी यूज करनी होगी, क्योंकि हर छोटी से छोटी चीज रीडर्स को अट्रैक्ट भी कर सकती है 


और डिस्ट्रैक्ट भी कर सकती है और

 लास्ट में नंबर टाइम पर है। 


अपनी नॉलेज को बढ़ाते रहिए आर्टिकल को यूनीक तभी बनाया जा सकता है जब उसमें हर बात को अलग तरह से अलग शब्दों में बहुत ही अच्छे तरीके से लिखा गया हो और ये सब करने के लिए आपको अपनी नॉलेज को भी बड़ी। रहना चाहिए।


 आपको किताबें पढ़नी चाहिए ताकि आपको नए बोर्ड सदस्य और नई पीढ़ी मिल सके, जिन्हें आप अपने आर्टिकल में प्रजेंट कर सकें। इसके अलावा अपने ब्लॉक के नेट के अकॉर्डिंग अपने आपको अपडेट करते रहना चाहिए, क्योंकि नॉलेज को हमेशा इम्प्रूवमेंट की तरफ ही लेकर जाएगी और आप यही चाहते भी हैं।


 राइट तो दोस्तो इस तरीके से इन नौ टिप्स को ध्यान में रखते हुए अपने आर्टिकल और ब्लॉग को लिख सकते हैं, जिसमें कॉन्टेंट पर तो ध्यान देना ही है। साथ ही साथ उसकी प्रेजेंटेशन को भी बेहतर बनाए रखना है और इसमें अगर हल्के हैं तो इस कमेंट बॉक्स में लिखकर के जरूर बताएं।


 ये Post कैसा लगा और लाइक करने के साथ साथ आपको इसे शेयर भी करना है ताकि जो लोग इस एरिया में सोच रहे हैं। राइटिंग के बारे में उन्हें इसमें हेल्प मिले। राइट और अगर आप हमारे साथ अभी भी जुड़े हैं तो प्लीज इस सब्सक्राइब करके आईकन को प्रेस कर दीजिए ताकि ऐसी इंट्रेस्टिंग इनोवेटिव जानकारियां आपको हमेशा मिलती
रहे। टाइम टाइम पर धन्यवाद।


Post a Comment

Previous Post Next Post

Contact Form