बीमा एजेंट कैसे बने Insurance Ajent

बीमा एजेंट कैसे बने

Insurance Ajent

 इंश्योरेंस एजेंट यानी बीमा कार्मिक बन कर आप अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं

यह एक सिंपल और सरल तरीका है

insurance ajent

insurance ajent
insurance ajent


बीमा कार्मिक का प्रमुख कार्य लोगों के पास जाकर उनको बीमा से संबंधित जानकारी उपलब्ध करवाना और उनका बीमा करना

सभी बीमा कंपनियां अपने कार्य विस्तार के लिए बीमा कार्मिकों को रखती हैं जिन्हें बीमा एजेंट कहा जाता है

इन बीमा एजेंटों को कंपनी के बारे में कंपनी की क्या क्या प्रक्रिया है क्या क्या प्लान है उन सभी के बारे में पूर्ण तरीके से ज्ञान होता है यहां फिर उनके ट्रेनिंग दी जाती हैं जिसकी वजह से वह उन प्लान को लोगों के बीच जाकर लोगों को बतलाते हैं समझाते हैं

इसी प्रकार बीमा एजेंट किसी भी व्यक्ति का बीमा करके तो उन्हें उसके अंदर कमीशन मिलता है

इसलिए बीमा एजेंट के तौर पर काफी मात्रा में लोग काम करते हैं

बीमा एजेंट किस प्रकार से बने

बीमा एजेंट बनने के लिए योग्यता एवं आयु सीमा

बीमा एजेंट के फायदे

बीमा एजेंट का वेतन

आईआरडीए द्वारा जो भी लाइसेंस शुदा कंपनियां हो उनके अंदर ऑफलाइन या ऑनलाइन तरीके से हमें आवेदन प्रस्तुत करना पड़ता है बीमा कंपनियों के अपने-अपने नियम कायदे होते हैं उन नियम कायदों के अंतर्गत आए हुए फॉर्म का चयन करने के बाद ही बीमा AJENT में के रूप में आईडी यानी लाइसेंस प्रदान किया जाता है जो भी व्यक्ति बीमा एजेंट के रूप में चयनित होता है उन्हें एक विशेष प्रकार की ट्रेनिंग दी जाती है वह कंपनी की तरफ से ही दी जाती है ज्यादा से ज्यादा लोगों को बीमा करवाने के प्रति समझाओगे जितने ज्यादा पॉलिसीज होंगी तो आप एक अच्छे क्वालिटी के बीमा एजेंट बन जाते हैं

बीमा एजेंट होते हैं वह उनको वेतन के तौर पर कमीशन दिया जाता है जिस प्रकार जितनी भी वह पॉलिसीज बेचते हैं उसी के अंदर उनको एक् फिक्स प्राइस के आधार पर कमीशन दिया जाता है

बीमा कार्मिक बनने की योग्यता

बीमा एजेंट बनने के लिए व्यक्ति को दसवीं पास या 12 वीं पास होना जरूरी है 100 घंटे की व्यवहारिक ट्रेनिंग लेना अति आवश्यक है जो आईआरडीए द्वारा पंजीकृत संस्था द्वारा दी जाती हो बीमा कंपनियां होती है उनके उनके पर्सनली नियम कायदे होते हैं उसी के अनुसार योग्यता के अनुसार नियुक्ति यानी बीमा कार्मिक बनाए जाते हैं और उन्हें उसे ही प्रकार प्रशिक्षण दिया जाता है

बीमा कार्मिक की आयु सीमा

एक बीमा एजेंट की आयु 18 वर्ष पूर्ण कर चुका हो या उससे अधिक होना चाहिए

बीमा कार्मिक के कार्य

बीमा कंपनी की जो भी पॉलिसीज होती है उनके बारे में लोगों को समझाना और जागरूक करना

बीमा कंपनियों के अलग-अलग प्लान होते हैं जिस व्यक्ति की जो जरूरत है उसी के अनुसार उसी प्लान के अनुसार उसका बीमा करवाना

इंश्योरेंस पॉलिसी की किस्तों के बारे में समय-समय पर उन्हें रिमाइंडर भेजते रहना ताकि पॉलिसी बंद ना हो

इंश्योरेंस पॉलिसी के बारे में सही और सटीक जानकारी लोगों को प्रदान करना और उनकी हेल्प करना किस टाइप का प्लान उनके लिए फायदेमंद रहेगा

बीमा कार्मिक के फायदे बीमा कार्मिक को बीमा करने के लिए अपने आसपास के काफी व्यक्तियों से संपर्क रहना पड़ता है जो बीमा Ajent में एक अपना अच्छा खासा रिकॉर्ड कंपनी के अंदर बना लेता है यानी ज्यादा से ज्यादा Policy बेच देता है तो उन्हें विदेश घूमने का भी मौका दिया जाता है समय की परिस्थितियों के अनुसार बीमा एजेंटों को उन्हें प्रशिक्षण भी दिया जाता है जिसकी उन्हें अलग-अलग जगहों यानी होटलों में बुलाया भी जाता है और वहां पर बीमा कंपनी टोटल खर्च करती है

इंश्योरेंस कितने type के होते हैं

इंश्योरेंस के type

इंश्योरेंस दो type के होते हैं

लाइफ इंश्योरेंस एवं जनरल इंश्योरेंस

लाइफ इंश्योरेंस

लाइफ इंश्योरेंस के अंतर्गत यह एक पर्सनल व्यक्तिगत बीमा होता है जिसके अंतर्गत अगर व्यक्ति के साथ कोई भी दुर्घटना या घटना घटित होती हैं तो उसको यहां इसे परिवार को लाभ प्राप्त होता है

जनरल इंश्योरेंस General Insurance

इसके अंतर्गत एक मुफ्त बीमा की किस्त भर दी जाती है फिर यह एक सीमित समय के लिए होता है जैसे ऑटोमोबाइल शॉप वगैरह

आज हमने आपको बीमा एजेंट कैसे बने इसके बारे में जानकारी प्रदान की गई है यह जानकारी आपको कैसी लगी है अगर अच्छी लगी है तो आप इसको लाइक करें और कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करें और हमें कुछ सुझाव भी दे सकते हैं

Post a Comment

Previous Post Next Post

Contact Form